Saturday, June 7, 2008

नन्हे हाथो में बर्तन ओर गिलासे देखकर....



नन्हे हाथो में
बर्तन ओर गिलासे देखकर
पूछा मैने॥
गुड़िया! बर्तन हाथो में लिए
कहा जा रही हो॥ बोलो,
कुछ मासूमियत से कहा उसने
पास वाली अम्मा जी के यहा
अश्टमी का पूजन है
कन्याओ को बुलाया है,
हम छोटी जात के है तो
बर्तन ख़ुद लाने को बोला है...
-------------------

17 comments:

  1. aapki ek aur rachna..samaj ka kala chehra saamne laati hai..wo bhi bade hi sensitivity se..

    kaha se laate hai aap ye sensitvity....

    aapka prayaas yuhi jaari rahe..
    likhte rahe..

    ReplyDelete
  2. ओह!! पढ़ते ही अन्दर तक चली गई यही कविता लगा किसी ने तेज धार किसी चीज से शरीर में पैवस्त कर दिया हो. इसे हमे बदलना होगा.

    ReplyDelete
  3. समाज का एक और आईना दिखाती है आपकी यह रचना ..अच्छी सच्ची लगी ..अभी भी कई जगह इस मानसिकता से लोग उभर नही पाये हैं ..

    ReplyDelete
  4. kadwi sachchai....bahut andar tak chhoo gayi!kaash sabhi log itne sensitive ho jaayen..

    ReplyDelete
  5. bahut achhe.
    bahut teekha vyangya
    bahut sateek baat
    naqaab odhe logon ke munh par zabardast tamacha.

    bahut achhe...

    (likhte rahe likhne ki zaroorat hai?? )

    ReplyDelete
  6. सच्चाई को बयान करती रचना, सुन्दर है।

    ReplyDelete
  7. हमारे समाज का नंगा और विकृत चेहरा.

    ReplyDelete
  8. बहुत सही है भाई.

    ReplyDelete
  9. teer bilkul nishane par hai..bas ummeed hai ki is samaj ko is teer ki chubhan mehsoos ho.

    Bahut hi umda aur sajeev lekhan

    ReplyDelete
  10. bilkul sahi nishana lagaya hai,samaj ke uss hisse ko dard hona chahiye,jo aaj bhi aisi soch rakhte hai,insaan to ek hi hai bas lall khun se bana,ye chota,bada kaha se aagaya?
    bahut sashakt rachana

    ReplyDelete
  11. कुश,
    आपकी कलम वाकई कुशाग्र है। अच्छा लिख रहे हो... और सबसे बड़ी बात यह कि आपने ब्लॉग का माहौल कूल बना रखा है। कूल कलर पिक्चर्स एंड कूल कलर टेक्सट विद कूल थीम।
    बहुत अच्छा!!!

    ReplyDelete
  12. कड़वा सच एक सीधी और सच्ची कविता के माध्यम से कहा कुश.
    दुःख भी होता है पढ़कर कि ऐसे-ऐसे लोग अभी भी है समाज मे.

    ReplyDelete
  13. बड़ा सूक्ष्म ऑब्जर्वेशन! बहुत अच्छा लिखा।

    ReplyDelete
  14. बेहद कड़वी सच्चाई और हकीकत ।

    ReplyDelete
  15. सच, मन दुखी हो गया. बहुत मार्मिक-एकदम आईना दिखाती रचना. आभार.

    ReplyDelete
  16. कुश जी,
    भगवान कैसे प्रसन्न होगेँ ऐसे अनुष्ठानोँ से जब समाज ऐसे भेदभाव् करता है ?अच्छी कविता लिखी आपने ..
    - लावण्या

    ReplyDelete

वो बात कह ही दी जानी चाहिए कि जिसका कहा जाना मुकरर्र है..