Friday, May 23, 2008

ये कह नही सकता....



सुबह की लालीमा, छाई है मुझ पर
पर ढल गयी है रात,
ये कह नही सकता

होंठ सील दिए याद मिटा दी
पर भूल गया हर बात,
ये कह नही सकता

आँसू तो रुक गये दिल हुआ पत्थर
पर भूल गया जज़्बात
ये कह नही सकता

हाथ मेरे तो अब भी खुले है
पर मिल जाए कोई साथ
ये कह नही सकता

चारदीवारी बना दी, दिल के चारो ओर
पर ना हो कोई वारदात
ये कह नही सकता

सब अपने से लगते, इस भीड़ में सारे
लगाके कौन बैठा घात
ये कह नही सकता

मायूस सी कलम देखती मुझे
भर जाए फिर दवात
ये कह नही सकता

लिखना तो बहुत है इस मंच पे आकर
पर क्या है मेरी औकात
ये कह नही सकता....

--------------------

15 comments:

  1. हाथ मेरे तो अब भी खुले है
    पर मिल जाए कोई साथ
    ये कह नही सकता
    अब हमारे कहने को कुछ छोडा नहीं है आपने

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर !
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  3. सब अपने से लगते, इस भीड़ में सारे
    लगाके कौन बैठा घात
    ये कह नही सकता


    बहुत खूब कुश जी सही लिखा आपने ..

    ReplyDelete
  4. बात सिले हुए होठों की हो या सीले हुए होठों की
    बात तो है कुछ
    जिसे कह नहीं सकता

    ReplyDelete
  5. सब अपने से लगते, इस भीड़ में सारे
    लगाके कौन बैठा घात
    ये कह नही सकता
    bahut khoob

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन! बहुत खूब.

    ReplyDelete
  7. हाथ मेरे तो अब भी खुले है
    पर मिल जाए कोई साथ
    ये कह नही सकता


    hame bhool gaye thakur....?

    ReplyDelete
  8. आँसू तो रुक गये दिल हुआ पत्थर
    पर भूल गया जज़्बात
    ये कह नही सकता
    bahut hi sundar,badjai

    ReplyDelete
  9. चारदीवारी बना दी, दिल के चारो ओर
    पर ना हो कोई वारदात
    ये कह नही सकता
    sunder khayaal hein.badhaayee.

    ReplyDelete
  10. हाथ मेरे तो अब भी खुले है
    पर मिल जाए कोई साथ
    ये कह नही सकता

    waah...bahut umda. beautiful..

    ReplyDelete
  11. सुंदर प्रयास..पहले छंद में पर की जगह अगर 'या 'कर दें तो कैसा रहे?

    सुबह की लालिमा, छाई है मुझ पर
    या ढल गयी है रात,

    ReplyDelete
  12. आप सभी की स्नेहिल प्रतिक्रियाओ का धन्यवाद..

    @मनीष जी
    आपका सुझाव सर आँखो पर..

    इसी तरह हौंसला बढ़ाते रहे

    आभार
    कुश

    ReplyDelete
  13. bahot dino baad....tumhara likha hua kuch padhne ko mila.....iske liye to aapko THANKS kahna padega......mast hai...hamesha ki tarha...aur jara hatkar bhi...:)

    ReplyDelete
  14. आँसू तो रुक गये दिल हुआ पत्थर
    पर भूल गया जज़्बात
    ये कह नही सकता

    wah! wah!
    poori rachna hi achchee hai........

    ReplyDelete

वो बात कह ही दी जानी चाहिए कि जिसका कहा जाना मुकरर्र है..