Wednesday, May 7, 2008

भगवान का नाम..
















भगवान का नाम ..
बचपन से सुनता आया हू
वो सबकी रक्षा करता है
मैं उसे ढूँड रहा हू,
कुछ लोग कहते है वो नही है
मैं मंदिर जाता हू..
मुझे मिलता है..
मैं उस से बात करता हू
वो सुनता है..
मैं लौट आता हू..
भगवान से मैने कहा तो था..फिर भी
सब वैसा ही है, कुछ बदलता क्यो नही
मा बोल ही रही थी...
आजकल सब माल नक़ली मिलता है
बनिया भी चालबाज़ है..
भगवान पर भरोसा तो है
वो नक़ली नही हो सकते
पर अगर हुए तो..
एक काम करता हू..
देख लेता हू
फिर मंदिर में जाकर...

----------------

21 comments:

  1. chhote bachhe..ka point of view ..ya hamare man mei chhupe balak ka point of view...bahut pyari kavita..

    likhte rahe...

    ReplyDelete
  2. सरल और सुंदर :) पर बहुत कुछ कहती हुई

    ReplyDelete
  3. पर अगर हुए तो..
    एक काम करता हू..
    देख लेता हू
    फिर मंदिर में जाकर...

    बहुत सादगी से कहा गया सच..

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    ReplyDelete
  4. kya baat hai...bahut khuub khayaal..

    ReplyDelete
  5. बेहद खूबसूरत विचार।

    कई बार हमे लगता है की भगवान् है भी या नही।

    ReplyDelete
  6. चुभता हुआ सच आवरण मे... यह भी खूब रही

    ReplyDelete
  7. aap ne is vishay par kuchh zyada hi komalta se baat rakh di...shayad bhagwan se dar gaye...ya vishwas abhi kayam hain...
    vaar thoda tez dhar karte to maza aa jata...

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छे कुश। आजकल जिस तरह दुनिया चल रही है इस से तो लगता है कि भगवान भी नकली ही हैं वरना क्या उनकी सीढ़ियों से किसी मासूम को उठा लिया जाता और उनको पता नहीं चलता?

    ReplyDelete
  9. kuch sochene par majboor karti hai,bahut hi badhiya.bhagwan shayad der se sunate hai,ya baar baar kehne par pata nahi.

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छा लिखा... मासूमियत भरी लाइनें. वैसे मन्दिर, मस्जिद तो भगवान् को कैद करने के लिए बनाए गए हैं, भगवान् तो हर जगह रहने वाले हैं,

    ReplyDelete
  11. खुशकिस्मत है आप जो अक्सर भगवान् से मिलते है ....यहाँ तो रोज आवाजे लगती है ....लगता है ऐ. सी चलाकर सो गया है......

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया. सहज भाव.

    ReplyDelete
  13. aapki kavita ki sahajta bahut mohak hai. chote chote shabd, chote se vaakya aur in sabme ubharati ek sundar si baat..is kavita ke liye badhai.

    ReplyDelete
  14. kush..aapki kavita bahut achchi hai lekin mere man mein ek skanka hai...uska samaadhan karo. mandir mein jaakar aapko kaise pata chalta hai ki bhagwan asli hai ya nakli..

    ReplyDelete
  15. कुश भाई भगवान अगर हे तो वो मन्दिर मस्जिद मे तो बिलकुल नही हे,पता हे कहा हे ? मन्दिर के बाहर उन भिखारियो मे जिन्हे हम अकसर दुत्कारते हे,
    आप की कविता ने बहुत कुछ कह दिया, बहुत ही सुन्दर कविता लिखी हे आप ने.

    ReplyDelete
  16. जो सब को लगा वही मुझे भी। सहज और सुंदर। बहुत उम्दा।

    ReplyDelete
  17. आप सभी की स्नेहिल प्रतिक्रियाओ का धन्यवाद.. भविष्य में भी इसी प्रकार मेरा हौसला बढ़ते रहे..

    आभार
    कुश

    ReplyDelete
  18. अपने मन में झंकिये, भगवान् आपको वहीं मिल जायेंगे. आपका मन भी तो एक मन्दिर है.

    ReplyDelete
  19. bahut sunder bhav hai . Badhai..
    Bhagvaan shabd kee vyakhya kee koshish kee hai hamne bhee .

    Padiyega...

    ReplyDelete

वो बात कह ही दी जानी चाहिए कि जिसका कहा जाना मुकरर्र है..