Wednesday, November 5, 2008

21 22 23 और ये 24... पूरी 24



21 22 23 और ये 24... पूरी 24

पूरी दस

उहु! दस नही 24

24 नही दस..

क्या दस?

तुम्हारी ऊंगलिया..

नही 24 मोमबत्तिया.. जो मेरी ऊंगलियो में है..

मैने तो ऊंगलिया गिनी है पूरी दस है..

सिर्फ़ ऊंगलिया मत गिनो.. शादी के दिन भी गिनो..

उफ़! ग़लती करदी गिनके

क्या शादी के दिन?

नही ऊंगलिया..

ग़लती तो मैने की जो कब से मोमबत्तिया लगा रही हू तुम्हारे केक पर..

इन से रोशनी नही होगी..

तो फिर?

तुमसे होगी!

मतलब?

मतलब ये की पच्चीसवी मोमबत्ती तुम मेरे घर पर जलाना..

अरे वाह! क्या रोशनी हुई है.. सारी मोमबत्तिया जल गयी...

32 comments:

  1. प्यार की रौशनी से घर जगमगाता ही है.प्यार से कट जाए तो साल २५ हो या ५०,समय का पता ही कहाँ चलता है.बहुत खूब कहा आपने.

    ReplyDelete
  2. वाह क्या तरकीब है

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर ख्याल है ! शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  4. पचीसवी मोमबत्ती की अग्रिम शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  5. प्यार के कुछ पल ही ज़िन्दगी जीने के अंदाज़ को बदल देते हैं ..बहुत अच्छा लिखा है आपने कुश ..शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  6. एक साल ओर कम हो गया मेरी उम्र से..........खैर रौशनी ही रौशनी है ...मोमबत्तिया अब तक जगमग कर रही है

    ReplyDelete
  7. candles chahe jitni bhi rahe pyar barkarar rahe,belated birthday wishes bhi:)

    ReplyDelete
  8. @अरे वाह! क्या रोशनी हुई है.. सारी मोमबत्तिया जल गयी...

    सुंदर.
    एक तरुण जैन संत ने कहा है, मोमबत्तिया बुझानी नहीं चाहियें. आपके गीत में बुझाने कि बात नहीं इस के लिए वधाई.

    ReplyDelete
  9. हरदम ऐसा ही रोशन जगमग आपका जहाँ रहे. मोमबत्तियों की जगमगाहट बनी रहे. शादी जल्दी से हो जाये-और क्या क्या शुभकामना दूँ. सब खुशियाँ मिल जायें तुम्हें. जन्मदिन मुबारक!!

    ReplyDelete
  10. जगमगाती पोस्ट!

    ReplyDelete
  11. जन्म दि‍न पर इससे अच्‍छी कवि‍ता क्‍या हो सकती है। इन शब्‍दों में प्रगाढ़ प्रेम मानों छलकने को हो रहा है'
    इन से रोशनी नही होगी..
    तो फिर?
    तुमसे होगी!

    ReplyDelete
  12. बिल्कुल सही जा रहे हो, बच्चा..
    इशारा साफ़ है, इतने ठलुओं को क़ाफ़ी पिला चुके हो
    अब जा कर उनका चाय का बुलावा मंज़ूर कर लो
    जन्मदिन की मुबारकाँ

    ReplyDelete
  13. शानदार, लाजवाब.....सही मायनों में यह आपकी तरफ़ से हम सबको "जन्मदिवस का तोहफा" है.

    ReplyDelete
  14. केक पर मोमबत्तियाँ लगाने वाली को आशीर्वाद कि अगले साल कुश उनके घर में मोमबत्ती जलाएँ... जन्मदिन मुबारक...

    ReplyDelete
  15. शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं
    शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं
    शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं
    शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं
    शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं
    शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं
    ठीक है पूरे २४ बरस की
    और ये रही अगले के लिए
    शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं
    शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं
    शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं
    शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं
    शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं
    शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं शुभकामनाएं
    Above muliplied by 50,000

    ReplyDelete
  16. Kush ..bahut bahut badhayee aur shubh kamnayen-
    ishwaar se prathna karti hun ki tumhari har ichchha poori ho--aur 25vin mombatti agle janamdin par tumahre ghar par 'WOhi' jalaye...
    'Jis ki 'muskaan bhar se --saari mombattiyan jal utheen!
    aisa ujaala hamesha tumhare ghar mein rahey..
    [tumhara blog page to bahut hi sundar aur sanwraa hua hai..har cheez jaise ek dum vyavsthit..]

    ReplyDelete
  17. जगमगातीँ रहेँ...
    खुशियाँ चारसू
    दुआ बनकर छातीँ रहेँ
    सालगिरह और जश्ने बहाराँ
    आबाद रहे कुश भाई और ..
    मोमबतियाँ जलीँ रहेँ ..
    उजाला बना रहे !!
    - लावण्या

    ReplyDelete
  18. आमीन कुश.. आमीन..
    25वीं घर पर साथ ही मनाना.. :)

    ReplyDelete
  19. bahut hi man-mohak ehsaas bahut sundar......

    ReplyDelete
  20. बाकि लोगों ने जैसा कहा उसके अलावा कुछ छिपा हुआ अर्थ भी मालूम पड़ा मुझे..

    ReplyDelete
  21. हम्म... अगले साल घर पर ही मनेगी और क्या! बीच में हम पार्टी का इंतज़ार करेंगे :-)

    ReplyDelete
  22. hmmm.... aapki mombattiyo ke bich hamesha ekta bani rahe ...... :) ...badhai...

    ReplyDelete
  23. बधाई, बहुत बहूत बधाई।

    पर मूझे तो बूलाए ही नही :(

    ReplyDelete
  24. बहुत बहुत बधाई ....और हमें भी इंतज़ार है आपके पच्चीस्वे जन्मदिन का!

    ReplyDelete
  25. कुश भाई, बहुत सुंदर लिखते है। मैं तो आपके बलॉग में खो सा गया हूँ। कैसे इतना सुंदर बना दिया, गज़ब का लग रहा है। बस एक ‘डोमेन नेम’ की कमी हैं, कुछ टिप्स प्रकाशित करिये पेज को संशोधित करने के बारे मे। हमारे ब्लॉगों पर भी विचरण करते रहिए, आपका हार्दिक स्वागत है। http://rapidsharefzd.blogspot.com, http://mastkalamkimasti.blogspot.com,http://www.betabkikalam.blogspot.com,

    ReplyDelete
  26. बारात में चलेंगे हम भी .

    ReplyDelete
  27. janmdin ki dher saari shubhkaamnayen avem yeh bhi kahungi ki bahut hi pyaar aur anuraag se bhari hai aapki abhivyakti.........

    ReplyDelete
  28. जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई। जल्द ही 25वीं भी आए इंतजार है भई।

    ReplyDelete
  29. बधाई बल्कि डबल बधाई
    क्योंकि मुझे विवेक सिंह की बात समझ में आई

    ReplyDelete
  30. soft, soft si hey!!

    kafi romantic bhi hey!
    good!

    ReplyDelete
  31. बहुत दिनों से आप के ब्लॉग पर आना नहीं हुआ...नतीजा ऐसी शानदार पोस्ट से इतने दिन दूर रहा...बहुत खूब लिखा है आपने...बहुत खूब माने बहुत ही खूब...वाह
    नीरज

    ReplyDelete

वो बात कह ही दी जानी चाहिए कि जिसका कहा जाना मुकरर्र है..