Thursday, October 2, 2008

दो क्षणिकाए - गाँधी और ईद...



तमाम
गवाहो ओर
सबूतो के
मद्देनज़र और लगे रहो
मुन्नाभाई की लोकप्रियता
को देखते हुए..
समाज के हर वर्ग में
गाँधिगिरी के सफलता
पूर्वक प्रचलन
होने से ये अदालत
इस नतीज़े पर
पहुँचती है.. की गाँधी नामक
विचार अभी मरा नही है..
केवल देह मात्र
को ख़त्म करने से..
विचार ख़त्म नही
होता.. गाँधी एक विचार है..
जो अभी भी
ज़िंदा है... इसलिए ये अदालत..
मुज़रिम
नाथुराम गोडसे को बा-इज़्ज़त बरी करती है ...


-----------------------




कितनी रातो को बाँध के रखा
हिज्र की गाँठे खुल रही है..
वो शोख मखमली.. परी के जैसी
अपनी छत पर उतर रही है..

आशिक़ का ईमान ना कोई..
उसका क्या मज़हब होता है..
मुझको अपना चाँद मिला है..
तुमको अपनी ईद मुबारक..

---

29 comments:

  1. अरे , आप भी ले लीजिए 'ईद मुबारक'।सुन्दर क्षणिकाएं

    ReplyDelete
  2. बिल्कुल सही कहा गाँधी एक विचार हैं। जो मर नही सकता।
    कितनी रातो को बाँध के रखा
    हिज्र की गाँठे खुल रही है..
    वो शोख मखमली.. परी के जैसी
    अपनी छत पर उतर रही है..

    आशिक़ का ईमान ना कोई..
    उसका क्या मज़हब होता है..
    मुझको अपना चाँद मिला है..
    तुमको अपनी ईद मुबारक..

    वाह जी क्या खूब लिखी हैं। दिल को छूता हुआ।

    ReplyDelete
  3. कितनी रातो को बाँध के रखा
    हिज्र की गाँठे खुल रही है..
    वो शोख मखमली.. परी के जैसी
    अपनी छत पर उतर रही है..

    आशिक़ का ईमान ना कोई..
    उसका क्या मज़हब होता है..
    मुझको अपना चाँद मिला है..
    तुमको अपनी ईद मुबारक..





    अरसे बाद "कुश" मिला ...ऐसा लगता है हम सब कही खो रहे है अपने आप को

    ReplyDelete
  4. मुझको अपना चाँद मिला है..
    तुमको अपनी ईद मुबारक..

    मुबारक जी मुबारक .दोनों बहुत अच्छी लगी .

    ReplyDelete
  5. कितनी रातो को बाँध के रखा
    हिज्र की गाँठे खुल रही है..
    वो शोख मखमली.. परी के जैसी
    अपनी छत पर उतर रही है..
    :
    bahot khub.....bas...aisa laga ki kshanika ke bajaye puri nazm hoti to aur bhi maza aata....aur gandhi vichar wali...sahi hai ...

    ReplyDelete
  6. केवल देह मात्र
    को ख़तम करने से..
    विचार ख़तम नही
    होता.. गाँधी एक विचार है..

    आपका ये विचार भी सुन्दरतम है और दुसरे वाला भी !
    मुझको अपना चाँद मिला है..
    तुमको अपनी ईद मुबारक..

    शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  7. आशिक़ का ईमान ना कोई..
    उसका क्या मज़हब होता है..
    मुझको अपना चाँद मिला है..
    तुमको अपनी ईद मुबारक..

    बहुत सुंदर ! धन्यवाद !

    ReplyDelete
  8. कुश की कलम तो सच ही बोलती है...। मानना तो पड़ेगा ही। शानदार है...(कि नहीं, ...आप बताइए)
    :)


    ले झाँक गि़रेबाँ ऐ कातिल, रमजान भी जाने वाला है।
    बापू शास्त्री का दिवस मना पड़ चुकी गले में माला है॥

    मज़हब को क्यूँ बदनाम करे, खेले क्यूँ खूनी खेल अरे।
    आँगन में मस्जिद एक ओर, तो दूजी ओर शिवाला है॥

    क्यों हाथ कटार लिया तूने,क्यों कर तेरे हाथ में भाला है?
    कहाँ पाक-कुरान को छोड़ दिया,कहाँ तेरी वो जाप की माला है?

    जब आज नमाज अता करना,या गंगाजी से जल भरना।
    तो ऊपर देख लिया करना, बस एक वही रखवाला है॥

    ReplyDelete
  9. कितनी रातो को बाँध के रखा
    हिज्र की गाँठे खुल रही है..
    वो शोख मखमली.. परी के जैसी
    अपनी छत पर उतर रही है..
    वाह जी क्या खूब लिखी हैं। दिल को छूता हुआ।

    ReplyDelete
  10. कुश जी
    आप की दोनों रचनाएँ ये साबित करती हैं की आप बेहद सुलझे हुए और बेहतरीन इंसान हैं...ऐसी रचनाएँ यूँ ही कोई नहीं लिख सकता...बधाई.
    नीरज

    ReplyDelete
  11. तमाम गवाहो ओर
    सबूतो के
    मद्देनज़र और लगे रहो
    मुन्नाभाई की लोकप्रियता
    को देखते हुए..
    समाज के हर वर्ग में
    गाँधिगिरी के सफलता
    पूर्वक प्रचलन
    होने बहुत सुंदर लिखा है. बधाई स्वीकारें.से ये अदालत

    ReplyDelete
  12. "... मुझको अपना चाँद मिला है..
    तुमको अपनी ईद मुबारक.."
    बहुत दमदार अभिव्यक्ति है।

    ReplyDelete
  13. अरे फ़ोटो तो असली लगाते !!!आप ने बिलकुल सही कहा हे मे आप से सहमत हू.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  14. जबरदस्त रचनाऐं..शुभ दिवस की बधाई एवं शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  15. वाह कुश जी, कमल का लिखते हैं आप....ओह फिर से वही कमेन्ट लिखा ही नही जाता...चलिए कुछ सच्चा कमेन्ट करते हैं...

    ReplyDelete
  16. केवल देह मात्र
    को ख़त्म करने से..
    विचार ख़त्म नही
    होता.. गाँधी एक विचार है..
    जो अभी भी
    ज़िंदा है... इसलिए ये अदालत..
    मुज़रिम
    नाथुराम गोडसे को बा-इज़्ज़त बरी करती है .....
    चलिए अच्छा है,आपने नाथूराम को बरी कर दिया...लेकिन ये क्या? करम इतना तो ना करें, बाइज्ज़त बरी कर रहे हैं...थोड़ा एक दो चांटा तो लगा दें....

    आशिक़ का ईमान ना कोई..
    उसका क्या मज़हब होता है..
    मुझको अपना चाँद मिला है..
    तुमको अपनी ईद मुबारक.....

    अरे वाह, ये कौन सा आशिक मिल मिल गया आपको, जिसका कोई मज़हब ही नही है....लगता है आसमान से उतरा है...ज़रा हम से भी मिलवायें...मैं भी गौर से देखूं, ऐसे लोग देखने में कैसे लगते हैं....बहरहाल ये सब तो रहीं मजाक की बातें....काफी अरसे बाद एक शायर आई मीन, कवि के दर्शन हुए....अच्छा लगा...उम्मीद है मेरा कमेन्ट आपको बुरा नही लगा होगा, वैसे काफी संभाल के कमेन्ट किया है मैंने...क्या करूँ..मेरा कमेन्ट आजकल पोस्ट बनकर सब के सामने आजाता है...

    ReplyDelete
  17. बापू के विचार तो सदा सदा चलेंगे। बल्कि, अहिंसा के विस्तृत प्रयोग तो अभी होने बाकी हैं।

    ReplyDelete
  18. आशिक़ का ईमान ना कोई..
    उसका क्या मज़हब होता है..
    मुझको अपना चाँद मिला है..
    तुमको अपनी ईद मुबारक..

    बहत सुंदर...मुबारक हो आपको भी...

    ReplyDelete
  19. गांधी के माध्यम से अच्छा व्यंग्य किया है।
    क्षणिकाएँ भी लाजवाब हैं। आपको भी ईद और विजयदशमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  20. आशिक़ का ईमान ना कोई..
    उसका क्या मज़हब होता है..
    मुझको अपना चाँद मिला है..
    तुमको अपनी ईद मुबारक..

    बहुत सुंदर अभिव्‍यक्ति..बहुत अच्‍छा लगा पढ़ना।

    ReplyDelete
  21. Nathurak godse ko baijjat bari kiya jata hai
    wah kya baat kahi hai
    kaha se soch lete ho itna alag

    bhaut achha lagata hai blog tak aana sarthak hota hai
    naye khyaal lekar hi jati hoon hamesha

    ReplyDelete
  22. "आशिक़ का ईमान ना कोई..
    उसका क्या मज़हब होता है..
    मुझको अपना चाँद मिला है..
    तुमको अपनी ईद मुबारक.."

    अरे वाह ! कुश भाई आप ग़ज़ल भी लिखते हैं ? मज़ा आगया !

    ReplyDelete
  23. kushbhai...dono hi kshanikaye lajawab...

    par ye sidha dil me utra...

    आशिक़ का ईमान ना कोई..
    उसका क्या मज़हब होता है..
    मुझको अपना चाँद मिला है..
    तुमको अपनी ईद मुबारक..

    ReplyDelete
  24. kushbhai...dono hi kshanikaye lajawab...

    par ye sidha dil me utra...

    आशिक़ का ईमान ना कोई..
    उसका क्या मज़हब होता है..
    मुझको अपना चाँद मिला है..
    तुमको अपनी ईद मुबारक..

    ReplyDelete
  25. aaj padhi ye dono kavitaye,Aap gajab likhte hain ,Aap ki lekhn shaili kamal ki hain ,bahut bahut bahut badhiya,badhi .gandhiji vali kshanika atyuttmm lagi .dhanywad

    ReplyDelete
  26. sundar rachna chand lafzo mein bhaavpoorn ..baNdhai hoo

    ReplyDelete

वो बात कह ही दी जानी चाहिए कि जिसका कहा जाना मुकरर्र है..