Thursday, January 15, 2009

रेड लाइट.

रेड लाइट...



नही ये वो रेड लाईट एरिया नही जहाँ पर मजबूरिया कुछ जरूरतों से जद्दोजहद करती हो.. ये तो शहर के व्यस्त चौराहे पर लगी वो तीन लाईट है जहा इंसान कुछ देर के लिए ही सही पर रुकता है..

मैं भी रुकता हू.. मेरे पास में एक साइकिल रिक्शा खड़ा है.. जिसमे पीछे एक लड़का और लड़की बैठे है.. ठंड बहुत तेज़ है.. लड़के ने गले में अभिषेक बच्चन की स्टाइल में मफ्लर डाल रखा है.. लड़का लड़की दोनो आगे बैठे रिक्शा वाले को देखकर हंस रहे है.. मेरी नज़र रिक्शा वाले पर जाती है.. उसने नीले कलर का स्वेटेर पहन रखा है.. जो बगल से फटा हुआ है.. उसी के बीच एक अख़बार फसाया हुआ है.. शायद सर्दी से बचने के लिए..

रोड लाइट के बिल्कुल करीब एक लड़कीनुमा महिला की आवाज़ आ रही है.. भैया ऐसे क्या करते हो.. शायद उन्होने कार चलाते वक़्त बेल्ट नही लगा रखा था.. पुलिस वाला कह रहा है आप समझती नही मैडम! साहब आए हुए है.. चालान तो बनेगा ही बनेगा.. वो गाड़ी की तरफ मुडी.. शायद लाइसेंस माँगा हो पुलिस वाले ने.., पर नही उसने अपना फ़ोन निकाला है.... अब वो पुलिस वाले को फ़ोन दे रही है.. पुलिस वाले ने गाड़ी की चाबी वापस दे दी है.. वो लड़कीनुमा महिला फिर से अपनी गाड़ी में बैठकर जा रही है... पुलिस वाला गुस्से में कुछ बड़बड़ा रहा है..

उसने देखा रिक्शे वाले का रिक्शा लाइन से थोड़ा आगे बढ़ गया.. गुस्से में उसने आव देखा ना ताँव और रिक्शे की हवा निकाल दी.. रिक्शा वाले के पास मोबाइल नही है...वो अब बड़बड़ा रहा है...

लड़के लड़की उतर गये रिक्शे से.. अरे भई अब हम कैसे जाएँगे? रिक्शे वाले ने कहा दो मिनट रूको हवा भरवा लेता हू.. लड़के ने मना कर दिया.. हम नही रुकेंगे.. रिक्शे वाला कह रहा है पैसे तो पूरे लूँगा.. लड़का मना कर रहा है.. रिक्शे वाला चिल्ला रहा है.. लड़की ने अपने पर्स में से निकाल कर दे दिए.. अब लड़का मन ही मन कुछ बड़बड़ा रहा है..

और भी बहुत सारे लोग है.. एक भाईसाहब तेज़ी से आए अपना स्कूटर लेकर.. थोड़ी सी टक्कर लग गयी कार को.. वो मुस्कुरा कर बोले सॉरी सर.. और आगे आकर खड़े हो गये.. एक साइकिल वाला आगे जाने के चक्कर में उनके स्कूटर के काँच से अपना हेंडल छु के निकल गया.. वो भाई साहब चिल्लाए.. अबे अँधा है क्या.. दिखता नही.. साले पता नही कहा कहा से आ जाते है..

एक बच्चा भीख माँगते हुए आया.. और साइकिल वाले के टायर से टकराया.. साइकिल वाले ने उसको थप्पड़ मारा.. और बोला चल भाग यहा से..

वो लड़का भीख माँगते हुए किसी कार की खिड़की पर खड़ा है.. भीख मांगने के चक्कर में कांच पर उसकी उंगलियों के निशान बन गए.. अंदर बैठे आदमी ने उसे धक्का देकर पीछे हटाया... वो बच्चा खिड़की में से उस आदमी के मुँह पर थूक कर चला गया है...

बस में बैठे एक आदमी ने खिड़की में से बाहर पान थूक दिया है.. जो एक भाईसाहब के कंधे पर गिरा.. उन्हे गुस्सा आ गया.. वो बोलना तो चाहते थे पर बोल नही पा रहे थे.. वो इधर उधर देखने लगे. फिर सड़क पर गुटका थूका और बोले भले आदमी थूकने से पहले देख तो लो कोई नीचे खड़ा है या नही..

मैं बस खड़े खड़े सोच रहा हूँ.. मुझे किसी से कोई सहानुभूति क्यो नही हो रही है.. ? क्या मैं बदल रहा हू? क्या मुझमे अब भावनाए नही बची है? ..क्या मेरी लाइफ मटीरियलीस्टिक हो रही है....?

सोचते सोचते पता ही नही चला लाइट कब ग्रीन हो गयी.. अब तो सिर्फ़ तीन सेकेंड बचे है.. ओह नो ! फिर से रेड लाइट..

अक्सर ज़िंदगी में ऐसा हो जाता है.. लाइट ग्रीन हो जाती है और हमे पता नही चलता.. फिर कुछ देर के लिए खड़ा रहना पड़ता है.. मैने सोच लिया है.. इस बार लाइट ग्रीन होते ही निकल जाऊँगा...

वैसे रेड लाइट पर अभी भी बहुत कुछ हो रहा है.. पर वो फिर कभी बताऊँगा... आप देखिए कही आपकी लाइट ग्रीन तो नही है..

43 comments:

  1. कुश जी, नमस्कार
    भाई, लगता है कि आप कुछ ज्यादा ही सेंसिटिव हो गए हो. तभी तो ग्रीन लाइट नहीं दिखी. चलो अब निकल जाना

    ReplyDelete
  2. रेड लाईट पर बहुत कुछ चलता है ......सच कहा आपने....मंगल वार को मगल देवता तो शनिवार को शनि देवता और भी न जाने क्या क्या ......बहुत सच्चा लिखा है आपने

    ReplyDelete
  3. सुंदर चित्रण रेड लाईट की सूक्ष्म घटनाओ का . हर बड़ा अपने छोटे पर ही तो रौब दिखता है . और छोटा सिर्फ़ बडबडाने के आलावा कर भी क्या सकता है

    ReplyDelete
  4. 1--नही ये वो रेड लाईट एरिया नही--lagat hai kal ki chittha charcha ka sar aa gaya--tabhi title aisa chuna hai????

    2-अभिषेक बच्चन की स्टाइल--us ka style chalta hai kya????

    3=लड़कीनुमा महिला--ye kya hota hai???
    4-रिक्शा वाले के पास मोबाइल नही है--sahi -
    5 -लड़की ने अपने पर्स में से निकाल कर दे diye-naya jamaana--sahi observation!-- .
    6-conclusion-- लाइफ मटीरियलीस्टिक हो रही है-
    bahut achcha observation aur prastuti hai..

    ReplyDelete
  5. wo pasand wala sticker nahin paste kiye ho Kush???ab lekh pasand karne blogvani jana padega..

    ReplyDelete
  6. हाँ अब लोग अपनी सेंसिटिव नेस अलग अलग हिस्सों में दिखाते है..इनमे से वाही साइकिल वाले जो इस बच्चे को थप्पड़ मारते है..जाकर अपने शब् के गिरे हुए बच्चे को उठायेगे....यही महिला जिन्होंने बेल्ट नही लगायी...ऑफिस में अपने चपरासी या मातहत को अनुशासन का पाठ पढायेंगी....हम जैसे slumdog millinorie को देखकर रोयेगे..क्यूंकि अंग्रेज भी poor india कह कर रोये है .....फ़िर बाहर आकर मेक्दोनल में बर्गर खाकर अपने दो चार दोस्तों को एस एम् एस करेगे...टी.वी देखेगे .सरकार को गाली देंगे ओर सो जायेंगे .नौकरिया झट पर बद्लेगे .ओर अपनी सेंसिटिव नेस लोकर में रख देंगे जैसे अगर इसे बाहर खर्च किया तो ख़त्म हो जायेगी....हर आदमी कई किरदार लिए बैठा है.....एक घंटे कुछ.दूसरे घंटे कुछ.....जिंदगी के इस पन्ने पर जिस आदमी को आप हीरो समझने लगते है.....अगले कुछ पन्ने पर वाही खलनायक बना दिखता है........रोज सिक्के जमा कर हम दिन खर्च कर रहे है...ओर ख़ुद भी खर्च हो रहे है आहिस्ता आहिस्ता ...अफ़सोस जिंदगी में मिले रेड लाईट के सिग्नल हम इग्नोर कर देते है

    ReplyDelete
  7. kafi acha observation hai kush bhai.hamari or se badhai

    ReplyDelete
  8. bas bhavnao ki bahav mein behte gaye,bahut achha observation aur prastuti bhi.actualy itani uthalputhal hai ke bahut kehna hai magar alfaz nahi mil rahe,yahi zindagi hai.

    ReplyDelete
  9. kush bhai mast likhe hai aap..kaafi accha observation.....

    ReplyDelete
  10. जीवन की विविध झलकियाँ ! बहुत खूब !!

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छी तस्वीर पेश की आपने| हम अनजाने में अक्सर insensitive हो जाते हैं| आइना दिखा गया "रेड लाइट"|

    ReplyDelete
  12. जिन्दग की सारी कैकोफोनी दिखा दी आपने रेड-लाइट पर!
    जबरदस्त चित्रण।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर लिखा. पढते २ ऐसा लगा जैसे मैं ही रेड सिगनल के सामने खडा हूं. यथार्थ का सटीक चित्रण. शायद आज हम कुछ ज्यादा ही खुदगर्ज हो गये हैं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  14. जीवन की विविध झलकिया!
    बहुत सुंदर चित्रण की आपने रेड लाईट की!
    मन की बात

    ReplyDelete
  15. कुश भाई एक रेड लाईट से कई तस्वीरें दिखा दी। हम सब जिन चीजों को अनदेखा कर देते उन्हें आप ले आए। वैसे अनुराग जी की बातों पूरी तरह सहमत हूँ। और हाँ कुश भाई एक बात पूछनी थी ये ब्लोग का टेम्पलेट किस दुकान से लाए। एक आधी दुकान का लिंक हमें भी दे दो। कई बार पूछना चाहा पर भूल जाता।

    ReplyDelete
  16. ईश्वर ने यह इन्सान नाम की कृति भी क्या खूब बनायी है। जितनी मूर्तियाँ उतने साँचों से निकली हुई। भीतर का मैटीरियल भी अलग-अलग डाल रखा है। फिर भी इनमें इतनी बुनियादी समानताएं मिलती हैं कि सोचकर दिमाग चकरा जाता है।

    कुश जी आपने तो कमाल ही कर दिया यह सब देखा हुआ यूँ बताकर...। शुक्रिया।

    ReplyDelete
  17. bahut kuch dekhne ko milta hai......poori zindagi signal par hoti hai

    ReplyDelete
  18. कुश जी, आपके जाल घर पर पधारे सभी पाठकोँ को मकर सँक्रात की बधाई
    ये आपके गुलाबी शहर का जिक्र किया है ना आपने ?
    सचाई को गुलाबी चश्मे से देखेँ तब अलग तस्वीर उभरती है और इस तरह सच !! १०० % !!

    ReplyDelete
  19. सड़क पर गुटका थूका और बोले भले आदमी थूकने से पहले देख तो लो कोई नीचे खड़ा है या नही.. क्या बात है। क्या केने,क्या केने टाइप!

    बेहतरीन पोस्ट!

    ReplyDelete
  20. रेड लाईट का यथार्थ वृतांत कितना कुछ सोचने को मजबूर कर देता है और उसे शब्दों में बखूबी बाँधा है. वाह!! सब कुछ जीवंत..इतने प्रहार झेलते संवेदनाऐं इम्यून हो गई हैं तो अब असर कितना कम होता है कि देख कर इंसान अनदेखा कर देता है.

    ReplyDelete
  21. भैया गलती हमारी ही रही जो सुबह आकर पढी ये पोस्ट !

    ऊपर ही लिख दिया करो कैसा मसाला है पोस्ट में .

    सुबह सुबह इमोशनल कर दिया !

    ReplyDelete
  22. भावुक कर देने वाली पोस्ट लिखी है ...ज़िन्दगी में जैसा जिसको मौका मिलता है सब वैसा ही जी लेते हैं अपने ढंग से .

    ReplyDelete
  23. अक्सर ज़िंदगी में ऐसा हो जाता है.. लाइट ग्रीन हो जाती है और हमे पता नही चलता.. फिर कुछ देर के लिए खड़ा रहना पड़ता है.. मैने सोच लिया है.. इस बार लाइट ग्रीन होते ही निकल जाऊँगा...
    " सच कहा ग्रीन लाईट कभी किसी का इन्तजार नही करती , जो निकल गया वो निकल गया और जो रह गया उसे फ़िर से रेड लाईट के ग्रीन होने का इन्तजार करना पड़ता है ...चाहे जीवन हो या फ़िर सड़क.."

    Regards

    ReplyDelete
  24. काफी दिनों बाद आज ब्लॉग देखने का मन किया तो ब्लॉगवाणी की रेटिंग में सबसे ऊपर तुम्हें पाकर खुशी हुई। लेख पढ़ा तो मजा आ गया। लगा नहीं पढ़ती तो शायद मिस कर देती। अच्छा वृतांत है कुश...रेड लाइट के सवा मिनट में जिंदगी के कई शेड्स समेट लिए। बढ़िया।

    ReplyDelete
  25. post par itni daer sae aayee iska afsos haen dr anuraag kae kament nae sab kuch keh diya jo man mae haen

    ReplyDelete
  26. पोस्ट पर टिप्पणी करने के लिए एक ही शब्द है....शानदार!

    ReplyDelete
  27. मै तो बस इतना ही कहुंगा...
    आप ने इस लेख मे दुनिया के रंग दिखा दिये
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  28. बहुत सुंदर अवलोकन, सुंदर रचना के लिये बधाई।

    ReplyDelete
  29. लाल बत्ती की इस कहानी पे पिघलता सा कुछ

    कुश की लेखनी को सलाम

    ReplyDelete
  30. kush bhai ab mai aap ki balog se bach nahi sakta , etana achchah likhte hai ki bhai padhna ke liye bar bar aana hi padata hai....

    Regards

    ReplyDelete
  31. कुश जी, बहुत ही संजीदा बात को बहुत सहज ही व्यक्त कर जाना ही आपकी क़लम की विशेषता है। रेड लाइट को वास्तविक दृष्टांत बना दिया आपने। लाजवाब।

    ReplyDelete
  32. ज़िन्दगी में आप जैसे संजीदा लोग है तो sensitivity है नही तो आजकल materialism का ज़माना है भाई ...बड़े शेहरो में कुछ ज़्यादा ,छोटे शेहरो में कुछ कम ...

    ReplyDelete
  33. कुश जी..
    ऎसा नहीं कि कुछ लिखना नहीं चाहता.. मैं तो ढेर सारी बातें करना चाहता हूं.. पर सारे शब्द आपको दे दिये थे ना...

    आप सभी लोगों के ब्लाग्स पर मैं टिप्प्णियां दे कर, वैसा फील नहीं करना चाहता जैसे बारिश का कीट नकली पर लगा कर करता है.. तो मेरे विचारों को असली रखते हुए लिखता हूं कि बहुत सुंदर टिप्प्णी की है आज की माडर्न जीवन शैली पर.. अभी देखते हैं आप और भी क्या क्या बयान करते हो..

    आदर सहित

    ReplyDelete
  34. बहुत सही चित्रण, जिन्दगी को बड़े करीब से आ‍ब्जर्व करते हैं आप

    ReplyDelete
  35. Sach kahun kush aajkal bus kuch aisa hi haal hai main bhi yahi soch rahi hoon
    kya karan hai ki ab samvedansheel man bhi kisi ke dukh se dukhi nahi ho raha

    main hairaan hoon ki aisa kyu hai
    kyu
    मुझे किसी से कोई सहानुभूति क्यो नही हो रही है.. ? क्या मैं बदल रहा हू? क्या मुझमे अब भावनाए नही बची है? ..क्या मेरी लाइफ मटीरियलीस्टिक हो रही है....?

    magar ye soch hai
    shayad koi bhi takleef dekh kar yahi lagta hai ki yahi zindgi hai
    yaa hum khud main gum hai
    khudgurz shayad ................

    ReplyDelete
  36. जिस तरहां से आपने इस व्यथा का चित्रण किया है वो बहुत ही प्रभावित करता है



    अक्षय-मन

    ReplyDelete

  37. माफ़ करना भाई कुश, यह पोस्ट आज ही पढ़ पाया..
    तुम्हारा भेजा हुआ गज़नी मिले, अच्छे लगे ।
    इस पोस्ट में कुछ ऎतराज़ दर्ज़ करना चाहूँगा,
    "अभिषेक बच्चन की स्टाइल में मफ्लर" पर यह कहना है, कि वह मुझीसे तो ऎसा मफ्लर देखकर गया है, और श्रेय उनको दे रहे हो, भूलसुधार कर लेना ।
    यह लड़कीनुमा महिला, कैसी होती होगी भला ? महिलानुमा लड़कियाँ तो बहुतेरी देखी हैं, यह... लड़कीनुमा महिला ? एक फोटू भेजें ।
    तुमको सड़क पर इधर उधर देखने की आदत डा. अनुराग की संगत में लग गई है.. यह ठीक नहीं । वह तो डाक्टर कहलाने और शादी-शुदा होने के नाते पकड़े जाने पर बच निकलेंगे, और तुम पिट जाओगे । ध्यान रखना.. और हम लोगों को भी तो ग्रीन लाइट दिखलाओ, भाई !

    ReplyDelete
  38. Kush bahut dino baad aap ki post dekhi late ho gaya...ab sorry kya kahun lekin achchha lag raha hai ki ek khoobsurat post padhne ko mili.Aap kitni sadhar si lagne wali ghatnaon ko asadharan mod de dete ho...bahut khoob...tumhari lekhan kala kisi ko bhi apna deewana bana sakti hai...sach.
    Neeraj

    ReplyDelete
  39. डॉ अमर कुमार जी की सलाह मानिये
    रिस्क ले रहे हैं आप

    ReplyDelete
  40. बहुत बढिया

    एक रेडलाइट के बाहने आपने लोगों की मानसिकता और नए जमाने का एकदम सही चित्रण किया है।

    बढिया लिखते हो

    बधाई

    ReplyDelete
  41. बडा ही जीवंत चित्रण किया है...कुश !!

    थोड़ा भावुकता का भी पुट लिए ..

    Awesome !!!

    ReplyDelete

वो बात कह ही दी जानी चाहिए कि जिसका कहा जाना मुकरर्र है..